लाइव ट्रेडिंग रणनीतियाँ

शेयर बाजार में व्यापार और निवेश क्या है?

शेयर बाजार में व्यापार और निवेश क्या है?
शेयर बाजार का महत्व

शेयर बाजार में गिरावट का डर

वैश्विक शेयर और बॉन्ड बाजार में हालिया घटनाक्रम से शेयर बाजार में तेज गिरावट का संकेत मिलता है। अमेरिकी बेंचमार्क डाऊ जोंस शुक्रवार को कोविड महामारी के बाद की अपनी सारी बढ़त गंवाकर बंद हुआ और भारत की इक्विटी संपत्तियों में निवेश के लिए विदेशी निवेशकों का आर्थिक प्रोत्साहन 2008 के सबसे निचले स्तर पर आ गया है।

डाऊ जोंस अब कोविड के पहले के उच्च स्तर (फरवरी 2020) से महज 41 अंक ऊपर है। यह इस साल के 4 जनवरी के अपने रिकॉर्ड उच्च स्तर से अब 19.6 फीसदी नीचे आ गया है। विश्लेषकों का कहना है कि जोखिम मुक्त बॉन्ड के प्रतिफल या ब्याज दर में तेज वृद्धि की वजह से शेयर जैसी जोखिम वाली संपत्तियों में निवेश के लिए निवेशकों के आर्थिक प्रोत्साहन में कमी आई है।

एसऐंडपी ग्लोबल रेटिंग्स में वैश्विक मुख्य अर्थशास्त्री और प्रबंध निदेशक पॉल एफ ग्रुएनवाल्ड ने कहा, 'बॉन्ड प्रतिफल अधिक रहने और उच्च मुद्रास्फीति से परिसंपत्ति का मूल्य कम होता है और इक्विटी व अमेरिका के हाउसिंग बाजार जैसे परिसंपत्ति बाजारों में ऐसा दिख रहा है।'

अमेरिकी बॉन्ड का प्रतिफल इस साल दोगुना से अधिक बढ़ गया है। 10 वर्षीय अमेरिकी सरकारी बॉन्ड का प्रतिफल बीते शुक्रवार को 3.69 फीसदी रहा जो पिछले साल दिसंबर में 1.51 फीसदी था। अल्पावधि के बॉन्ड का प्रतिफल और बढ़ा है। 2 वर्षीय अमेरिकी ट्रेजरी का प्रतिफल 4.20 फीसदी पर पहुंच गया जो 2021 के अंत में 0.73 फीसदी था।

भारत में सेंसेक्स रिटर्न और अमेरिकी बॉन्ड प्रतिफल का अंतर 12 साल के निचले स्तर 81 आधार अंक रह गया है। बॉन्ड प्रतिफल में तेज वृद्धि और भारत में अपेक्षाकृत उच्च इक्विटी मूल्यांकन के कारण यह अंतर घटा है। शुक्रवार को सेंसेक्स की आय का प्रतिफल 4.5 फीसदी रहा जबकि अमेरिकी बॉन्ड का प्रतिफल 3.69 फीसदी रहा।

ऐसे में विदेशी निवेशक महज 81 आधार अंक के अंतर वाले प्रतिफल के लिए शेयर जैसे जोखिम वाली संपत्तियों में निवेश कम कर रहे हैं। 2021 के अंत में यह अंतर 208 आधार अंक था और अप्रैल 2020 में यह 4.7 फीसदी था।

शेयरों का आय प्रतिफल उसके प्राइस टु अर्निंग मल्टिपल के विपरीत है और यह निवेशक के लिए संभावित लाभांश प्रतिफल है बशर्ते लक्षित कंपनी अपने 100 फीसदी ताजा वार्षिक मुनाफे को इक्विटी लाभांश के तौर पर वितरित करे। आमतौर पर आय प्रतिफल जोखिम-मुक्त बॉन्ड प्रतिफल के मुकाबले अधिक होता है। यह निवेशकों को सरकारी बॉन्ड के बजाय शेयरों में निवेश का जोखिम लेने के लिए प्रेरित करता है।

ऐतिहासिक तौर पर विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों द्वारा बिकवाली किए जाने पर प्रतिफल में कमी आती है। इससे बाजार गिरता है जबकि शेयर बाजार तेजी आने पर प्रतिफल भी अधिक होता है।

सिस्टमैटिक्स इंस्टीट्यूशनल इक्विटी के निदेशक एवं प्रमुख (अनुसंधान, रणनीति एवं अर्थशास्त्र) धनंजय सिन्हा ने कहा, 'देसी शेयर बाजार वैश्विक स्तर पर सबसे अधिक महंगे बाजारों में शामिल है। सेंसेक्स 22.3 गुना पी/ई गुणक पर जबकि एसऐंडपी 500 सूचकांक 17 गुना पी/ई गुणक पर कारोबार कर रहा है। अमेरिकी बॉन्ड के मुकाबले भारतीय शेयर परिसंपत्तियों में निवेश को बरकरार रखने में एफपीआई को जोखिम दिख रहा है।'

बॉन्ड प्रतिफल में आगे और वृद्धि होने के आसार हैं क्योंकि अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने अपनी बेंचमार्क ब्याज दर को मौजूदा 3.25 फीसदी से बढ़ाकर 4.6 फीसदी करने के संकेत दिए हैं। ऐसा कम से कम 2024 तक रहेगा ताकि मुद्रास्फीति को नियंत्रित किया जा सके।

शेयर बाजार का महत्व

शेयर बाजार का महत्व, कार्य और उद्देश्य तथा अर्थव्यवस्था में इसका योगदान। दुनिया के सभी देशों में शेयर बाजार होते हैं मगर इन्हैं किस लिये बनाया जाता है, इनका योगदान क्या है और ये क्यों इतने महत्वपूर्ण हैं किसी भी अर्थव्यवस्था के लिये। क्यों प्रतिदिन समाचारों में इनके उतार चड़ाव को इतना महत्व दिया जाता है? आखिर शेयर बाजार में होता क्या है यह सब समझेंगे आसान हिंदी में। शेयर बाजार के अन्य सभी पहलुओं को समझने के लिये पढ़ें शेयर मार्किट हमारी साइट पर। Importance of Share Markets and it’s working.

शेयर बाजार का महत्व

शेयर बाजार का महत्व

शेयर बाजार का महत्व, कार्य और उद्देश्य

शेयर बाजार कंपनियों के लिये पैसा जुटाने के लिये मंच प्रदान करता है। यह कंपनियों के शेयरों की सार्वजनिक रूप से व्यापार करने की अनुमति देता है, और सार्वजनिक बाजार में कंपनियों को उनके स्वामित्व के अंश बेचकर विस्तार के लिए अतिरिक्त वित्तीय पूंजी जुटाने में मदद करता है। स्टॉक एक्सचेंज निवेशकों को प्रतिभूतियों के व्यापार के लिये लिक्विडिटी यानी तरलता प्रदान करता है जिससे उन्हें तेज़ी से और आसानी से बेचा जा सके।

शेयर बाजार का महत्व कंपनियों और निवेशकों के लिये

कंपनियां शेयर इस लिये जारी करतीं हैं कि व्यवसाय के लिये पूंजी जुटाई जा सके। निवेशक कोई शेयर इस लिये खरीदते हैं जिससे वे कंपनी के विकास और मुनाफे में भागीदार बन सकें और उस शेयर की मांग बढ़ने पर उसे ऊंची कीमतों पर बेच सकें। शेयर बाजार कंपनियों और निवेशकों को इस सब के लिये मंच प्रदान करता है। शेयर बाजार का महत्व कंपनियों और निवेशकों के लिये एक सा ही है। यहां पढ़ें किस कंपनी का शेयर खरीदें हमारी साइट पर।

शेयर बाजार तरलता प्रदान करता है

शेयर बाजार मे किसी कंपनी के शेयर सुचिबद्ध होने के बाद लगभग हमेशा उसमें खरीददार और बेचने वाले उपलब्ध रहते हैं। शेयर बाजार वह मंच है जिस पर हमेशा शेयरों की उपलब्धता और तरलता बनी रहती है। इसी तरलता के कारण शेयर बाजार में निवेशकों के लिये निवेश करना और उससे लाभ उठाना आसान हो जाता है। प्रॉपर्टी और अन्य संपत्तियों को बेचने में ऐसी तरलता नहीं मिलती है।

शेयर बाजार अर्थव्यवस्था के मापक हैं

स्टॉक और अन्य संपत्तियों की कीमत आर्थिक गतिविधि की गतिशीलता का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और सामाजिक मनोदशा का संकेतक हो सकता है। एक अर्थव्यवस्था जहां शेयर बाजार में वृद्धि हो रही हो उसे उभरती हुई अर्थव्यवस्था माना जा सकता है। शेयर बाजार को अक्सर किसी भी देश की आर्थिक ताकत और विकास का प्राथमिक संकेतक माना जाता है। लंबी अवधी तक बढ़ते शेयर बाजार देश में बढ़ती आर्थिक गतिविधियों का संकेत देते हैं और गिरते बाजारों का मतलब यह हो सकता है कि आर्थिक गतिविधियां सिकुड़ रहीं हें।

नियंत्रण

शेयरों की कीमतें घरेलू निवेश और खपत को भी प्रभावित कर सकती हैं। इसलिए केंद्रीय बैंक जैसे कि आरबीआई शेयर बाजार के नियंत्रण, व्यवहार और वित्तीय प्रणाली के कार्यों के सुचारू संचालन पर नजर रखते हैं। वास्तव में देश में वित्तीय स्थिरता पर नजर रखना ही आरबीआई का मुख्य काम है।

शेयर बाजार पर होता है आसान लेनदेन

एक्सचेंज प्रत्येक लेनदेन के लिए क्लीयरिंग हाउस के रूप में भी कार्य करते हैं जिसका अर्थ है कि वे शेयर बेचने वाले से एकत्र करते हैं और खरीदने वाले को वितरित करते हैं और शेयरों के विक्रेता को भुगतान की गारंटी देते हैं। यदि काउंटरपार्टी लेनदेन पर डिफ़ॉल्ट हो जाये तो उस स्थिति में स्टॉक एक्सचेंज व्यक्तिगत खरीदार या विक्रेता के जोखिम को समाप्त करते है।

शेयर बाजार में निवेशकों की बढ़ती रुचि

बैंक और शेयर बाजार मिल कर किसी भी देश में वित्तीय प्रणाली को समृद्ध बनाने में अपना अपना योगदान देते हैं। आंकड़ों के अनुसार हाल के दशकों में अधिकतर देशों में घरेलू निवेश में शेयरों का हिस्सा बाड़ी तेजी से बढ़ा है। हमारे देश में भी बढ़ते शेयर बाजार इसी तरह के संकेत दे रहे हैं। हाल के वर्षों में हमारे देश में युवाओं का रुझान SIP और म्यूचुअल फंड की तऱफ बढ़ा है। यह भी अप्रत्यक्ष रूप से शेयरों में निवेश का ही तरीका है।

शेयर बाजार का महत्व किसी भी देश की वित्तीय प्रणाली को सुचारू रूप से चलाने के लिये बहुत ही आवश्यक हो गया है जिसके बिना आर्थिक गतिविधियों को स्पीड नहीं मिल पाती है। आप भी शेयर बाजार सीखें और तरक्की की रफ्तार में शामिल हो जायें।

What is Share and Share Market: शेयर क्या होता है? क्यों खरीदते हैं लोग शेयर?

What is Share and Share Market: शेयर क्या होता है? क्यों खरीदते हैं लोग शेयर?

aajtak.in

aajtak.in

  • नई दिल्ली ,
  • 13 नवंबर 2021,
  • अपडेटेड 1:37 PM IST

Basics of Stock Market and Shares: व्यापार में और निवेश जगत में शेयर का नाम सबसे ज्यादा लिया जाता है , शेयर के बारे में लोग बाते करते है और बताते है. लेकिन अगर आप नहीं जानते शेयर क्या है, तो कोई बात नहीं. आज इस वीडियो से जानें कि आखिर क्या होता है शेयर और क्यों लोग शेयर खरीदते हैं.

शेयर बाजार में व्यापार और निवेश क्या है?

Investments in securities are subject to market risks. Read all the documents or product details carefully before investing. WealthDesk Platform facilitates offering of WealthBaskets by SEBI registered entities, termed as "WealthBasket Managers" on this platform. Investments in WealthBaskets are subject to the Terms of Service.

WealthDesk is a platform that lets you invest in systematic, modern investment products called WealthBasket.

WealthDesk Unit No. 001, Ground Floor, Boston House, Suren Road, Off. Andheri-Kurla Road, Andheri (East), Mumbai, Mumbai City, Maharashtra- 400093

© 2022 Wealth Technology & Services Private Limited. CIN: U74999MH2016PTC281896

निवेश उत्‍पाद

बैंक ऑफ बड़ौदा पहली बार एवं अनुभवी निवेशकों की आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए म्यूचुअल फंड, पोर्टफोलियो प्रबंधन सेवाओं (पीएमएस), बांड, एनसीडी, वैकल्पिक निवेश उत्पादों आदि की विस्तृत श्रृंखला पेश करता है.

म्यूचुअल फंड निवेश

  • म्युचुअल फंड दीर्घावधि में मुद्रास्फीति से निपटने एवं कर-बचत प्रतिफल (रिटर्न) प्रदान करते हैं .
  • निवेशक अपने जोखिम / रिटर्न प्रोफाइल के अनुसार विभिन्न आस्ति वर्गों जैसे इक्विटी, ऋण या सोने में निवेश कर सकते हैं.

वैकल्पिक निवेश उत्‍पाद

  • वैकल्पिक निवेश उत्पादों का उपयोग करके पेशेवर प्रबंधित और विविध प्रकार की निवेश नीतियों की सुविधा प्राप्त करें.
  • वैकल्पिक निवेश उत्पाद में पोर्टफोलियो प्रबंधित सेवा, संरचित उत्पाद आदि शामिल हैं.

बड़ौदा ई-ट्रेड 3 इन 1 खाता

  • बाधा रहित और सुरक्षित ट्रेडिंग अनुभव प्राप्‍त करने के लिए बैंक ऑफ़ बड़ौदा के साथ एक सिंक्रोनाइज़ बैंक, डीमैट और ट्रेडिंग खाता खोलें .
  • डिजिटल खाता खोलने की प्रक्रिया 100% कागज रहित और बाधा-रहित मुक्त है.

डिमैट खाता

आसान स्‍टोरेज एवं लेनदेन की सुविधा के लिए प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखें.

  • आसान स्‍टोरेज एवं लेनदेन की सुविधा के लिए प्रतिभूतियों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखें.

क्‍या आपको सहायता की आवश्‍यकता है?

कॉलबैक अनुरोध

कृपया यह विवरण भरें, ताकि हम आपको वापस कॉल कर सकें और आपकी सहायता कर सकें.

Thank you [Name] for showing interest in Bank of Baroda. Your details has been recorded and our executive will contact you soon.

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

म्यूचुअल फंड शेयर बाजार में व्यापार और निवेश क्या है? निवेशकों को यूनिट जारी करके और प्रस्ताव दस्तावेज में बताए गए उद्देश्यों के अनुसार प्रतिभूतियों में फंड का निवेश करके धन जमा करने का एक साधन है.

प्रतिभूतियों में निवेश उद्योगों और क्षेत्रों के व्यापक क्रॉस-सेक्शन में फैला हुआ है और इस प्रकार इसमें अनेक प्रकार की जोखिम है क्योंकि सभी शेयर बाजार में व्यापार और निवेश क्या है? स्टॉक एक ही तरह से और एक ही समय में सामान अनुपात में नहीं चल सकते हैं. म्यूचुअल फंड द्वारा निवेशकों को उनके द्वारा निवेश किए शेयर बाजार में व्यापार और निवेश क्या है? गए धन की मात्रा के अनुसार इकाइयाँ जारी किया जाता है. म्यूचुअल फंड के निवेशकों को यूनिटहोल्डर के रूप में जाना जाता है.

इसके अंतर्गत लाभ या हानि निवेशकों द्वारा उनके निवेश के अनुपात में शेयर की जाती है. म्यूचुअल फंड आम तौर पर कई योजनाएं लेकर आते हैं जो समय-समय पर विभिन्न निवेश उद्देश्यों के साथ शुरू की जाती हैं.

म्यूचुअल फंड की किसी विशेष योजना का कार्यनिष्पादन इसके नेट आस्ति मूल्य (एनएवी) द्वारा दर्शाया जाता है.

म्यूचुअल फंड निवेशकों से जुटाए गए रकम को प्रतिभूति बाजार में निवेश करते हैं. सरल शब्दों में, एनएवी योजना द्वारा धारित प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य होता है. चूंकि प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य प्रत्येक दिन बदलता है, इसलिए किसी योजना का एनएवी भी दैनिक आधार पर बदलता रहता है. प्रति इकाई एनएवी किसी विशेष तिथि पर योजना की कुल इकाइयों की संख्या से विभाजित करके इसकी प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य होता है. उदाहरण के लिए, यदि म्यूचुअल फंड योजना की प्रतिभूतियों का बाजार मूल्य रू. 200 लाख है और म्यूचुअल फंड ने निवेशकों को 10 रुपये की 10 लाख इकाइयां जारी की हैं, तो फंड की प्रति यूनिट एनएवी 20 रुपये (यानी, 200) होगी. म्यूचुअल फंड द्वारा दैनिक आधार पर एनएवी का खुलासा करना आवश्यक होता है.

  • परिपक्वता अवधि के अनुसार योजनाएं:

किसी म्यूचुअल फंड योजना को उसकी परिपक्वता अवधि के आधार पर ओपन-एंडेड योजना या क्लोज-एंडेड योजना क्र रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है.

ओपन-एंडेड फंड / योजना

एक ओपन-एंडेड फंड या योजना वह है जो निरंतर आधार पर सदस्यता और पुनर्खरीद के लिए उपलब्ध होता है. इन योजनाओं की कोई निश्चित परिपक्वता अवधि नहीं होती है. निवेशक आसानी से प्रति यूनिट नेट एसेट वैल्यू (एनएवी) पर यूनिट खरीद और बेच सकते हैं जिसे दैनिक आधार पर घोषित किया जाता है. ओपन-एंड योजनाओं की प्रमुख विशेषता तरलता(लिक्वीडीटी है

क्लोज-एंडेड फंड / योजना

क्लोज-एंडेड फंड या स्कीम के अंतर्गत एक निर्धारित परिपक्वता अवधि होती है, जैसे, 3-5 साल. योजना के शुभारंभ के समय एक निर्दिष्ट अवधि के दौरान ही फंड सदस्यता के लिए खुला रहता है. निवेशक नए फंड की पेशकश के समय इस योजना में निवेश कर सकते हैं और बाद में वे स्टॉक एक्सचेंजों पर योजना की इकाइयों की खरीद या बिक्री कर सकते हैं जहां इकाइयां सूचीबद्ध हैं. निवेशकों को एक एक्जिट मार्ग प्रदान करने के लिए, कुछ क्लोज-एंडेड फंड एनएवी से संबंधित कीमतों पर आवधिक पुनर्खरीद के माध्यम से यूनिट को म्यूचुअल फंड को फिर से बेचने का विकल्प देते हैं.

किसी योजना को उसके निवेश के उद्देश्य पर विचार करते हुए विकास योजना, आय योजना या संतुलित योजना के रूप में भी वर्गीकृत किया जा सकता है. इस तरह की योजनाएं ओपन-एंडेड या क्लोज-एंडेड कोई भी हो सकती हैं जैसा कि इससे पूर्व सूचित किया है. ऐसी योजनाओं को मुख्य रूप से निम्नानुसार वर्गीकृत किया जा सकता है:

विकास/इक्विटी उन्मुख योजना

ग्रोथ फंड का उद्देश्य मध्यम से लंबी अवधि में पूंजी वृद्धि प्रदान करना है. ऐसी योजनाएं आम तौर पर अपनी निधि का का एक बड़ा हिस्सा इक्विटी में निवेश करती हैं. ऐसे फंडों में तुलनात्मक रूप से उच्च जोखिम निहित होता है. ये योजनाएं निवेशकों को लाभांश विकल्प एवं विकास जैसे विभिन्न विकल्प प्रदान करती हैं और निवेशक अपनी पसंद के आधार पर किसी विकल्प का चयन कर सकते हैं. निवेशकों द्वारा अपने आवेदन पत्र में ऐसे विकल्प का उल्लेख करना चाहिए. म्यूचुअल फंड अपने निवेशकों को इसकी तारीख के बाद भी अपना विकल्प बदलने की अनुमति भी प्रदान करते हैं.. दीर्घावधि के दृष्टिकोण वाले निवेशकों के लिए ऐसी विकास योजनाएं अच्छी होती हैं, जो समय की अवधि में इसमें बढ़ोत्तरी चाहते हैं.

आय/ऋण उन्मुख योजना

आय फंड का उद्देश्य निवेशकों को नियमित और निश्चित आय प्रदान करना है. ऐसी योजनाएं आम तौर पर निश्चित आय प्रतिभूतियों जैसे बांड, कॉर्पोरेट डिबेंचर, सरकारी प्रतिभूतियों और मुद्रा बाजार के साधनों में अपना निवेश करती हैं और ऐसे फंड इक्विटी योजनाओं की तुलना में कम जोखिम वाले होते हैं.

हालांकि, ऐसे फंड्स में कैपिटल एप्रिसिएशन के अवसर भी सीमित होते हैं. देश में ब्याज दरों में होने वाले बदलाव के कारण ऐसे फंडों की एनएवी प्रभावित होती है. ब्याज दरें कम होने पर ऐसे फंडों के एनएवी में अल्पावधि में वृद्धि होने की संभावना रहती है और ब्याज दर में वृद्धि होने पर इसके विपरीत प्रभाव पड़ता है. तथापि दीर्घावधि के निवेशक इन उतार-चढ़ावों से परेशान नहीं हो सकते हैं.

संतुलित योजनाओं का उद्देश्य विकास और नियमित आय दोनों ही प्रदान करना है क्योंकि ऐसी योजनाएं इक्विटी और निश्चित आय प्रतिभूतियों दोनों में इनके प्रस्ताव दस्तावेजों में दर्शाए अनुपात में निवेश करती हैं. ये मध्यम वृद्धि की तलाश कर रहे निवेशकों के लिए उपयुक्त हैं. शेयर बाजारों में शेयर की कीमतों में उतार चढ़ाव होने के कारण भी ये फंड प्रभावित होते हैं. हालांकि, ऐसे फंडों के एनएवी के शुद्ध इक्विटी फंड की तुलना में अस्थिर होने की संभावना कम होती है.

रेटिंग: 4.47
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 552
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *